आप सभी का स्वागत है. रचनाएं भेजें और पढ़ें.
उन तमाम गुरूओं को समर्पित जिन्होंने मुझे ज्ञान दिया.

Tuesday, January 20, 2009

विपत्ति-ग्रस्त

डा. महेंद्र भटनागर

बारिश
थमने का नाम नहीं लेती,
जल में डूबे
गाँवों-क़स्बों को
थोड़ा भी
आराम नहीं देती!
सचमुच,
इस बरस तो क़हर ही
टूट पड़ा है,
देवा, भौचक खामोश
खड़ा है!
.
ढह गया घरौंधा
छप्पर-टप्पर,
बस, असबाब पड़ा है
औंधा!
.
आटा-दाल गया सब बह,
देवा, भूखा रह!
.
इंधन गीला
नहीं जलेगा चूल्हा,
तैर रहा है चैका
रहा-सहा!
.
घन-घन करते
नभ में वायुयान
मँडराते
गिद्धों जैसे!
शायद,
नेता
मंत्री आये
करने चेहलक़दमी,
उत्तर-दक्षिण
पूरब-पश्चिम
छायी
ग़मी-ग़मी!
अफ़सोस
कि बारिश नहीं थमी!

4 comments:

Hima Agarwal January 20, 2009 at 9:05 PM  

बहुत अच्‍छी कविता। सच में नेताओं के उड़न खटोले गिद्धों से कम नहीं।

Udan Tashtari January 20, 2009 at 9:26 PM  

बहुत सुन्दर..आनन्द आ गया.

संगीता पुरी January 21, 2009 at 12:15 AM  

बहुत सुंदर लिखा है।

Dev January 21, 2009 at 12:58 AM  

Maine aapke blog ko bookmark ka liya hai...aapke blog par bahut achchhi jankari milti hai....

Bahut sundar kavita....

Regards

About This Blog

  © Blogger templates ProBlogger Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP