आप सभी का स्वागत है. रचनाएं भेजें और पढ़ें.
उन तमाम गुरूओं को समर्पित जिन्होंने मुझे ज्ञान दिया.

Sunday, November 16, 2008

दिले-नामा

SEEMA GUPTA

इस दिल का दोगे साथ, कहाँ तक, ये तय करो !
फिर इसके बाद दर्ज, दिले-नामा-ए-बय करो !!
(दिले-नामा-ए-बय = दिल का विक्रय पत्र )(सेल डीड ऑफ हार्ट)

1 comments:

seema gupta November 17, 2008 at 1:00 PM  

DR.Shagufta Niyaz jee thanks for giving a valuable space to my work on your blog.."

regards

About This Blog

  © Blogger templates ProBlogger Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP