आप सभी का स्वागत है. रचनाएं भेजें और पढ़ें.
उन तमाम गुरूओं को समर्पित जिन्होंने मुझे ज्ञान दिया.

Monday, April 6, 2009

आदमी और स्वप्न

महेंद्र भटनागर

आदमी का प्यार सपनों से
सनातन है !
मृत्यु के भी सामने
वह, मग्न होकर देखता है स्वप्न !
सपने देखना, मानों,
जीवन की निशानी है ;
यम की पराजय की कहानी है !
.
सपने आदमी को
मुसकराहट — चाह देते हैं,
आँसू — आह देते हैं !
.
हृदय में भर जुन्हाई-ज्वार,
जीने की ललक उत्पन्न कर,
पतझार को
मधुमास के रंगीन-चित्रों का
नया उपहार देते हैं !
विजय का हार देते हैं !
.
सँजोओ, स्वप्न की सौगात,
महँगी है !
मिली नेमत,
इसे दिन-रात पलकों में सहेजो !
‘स्वप्नदर्शी’ शब्द
परिभाषा ‘मनुज’ की,
गति-प्रगति का
प्रेरणा-आधार;
संकट-सिंधु में
संसार-नौका की
सबल पतवार ;
गौरवपूर्ण सुन्दरतम विशेषण।
स्वप्न-एषण और आकर्षण
सनातन है, सनातन है !
आदमी का प्यार सपनों से
सनातन है !

4 comments:

bhootnath( भूतनाथ) April 6, 2009 at 8:37 AM  

haan.........sach hai yah ki prem sanaatan hai...!!

डॉ. मनोज मिश्र April 6, 2009 at 8:48 AM  

आदमी का प्यार सपनों से
सनातन है !..सब कुछ सनातन है ,अच्छी रचना .

परमजीत बाली April 6, 2009 at 11:31 AM  

बहुत सही व यथार्त भाव हैं।सुन्दर रचना है।बधाई।

परमजीत बाली April 6, 2009 at 11:31 AM  

बहुत सही व यथार्त भाव हैं।सुन्दर रचना है।बधाई।

About This Blog

  © Blogger templates ProBlogger Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP