आप सभी का स्वागत है. रचनाएं भेजें और पढ़ें.
उन तमाम गुरूओं को समर्पित जिन्होंने मुझे ज्ञान दिया.

Sunday, May 3, 2009

भिक्षा

महेंद्र भटनागर

संपीडित अँधेरा
भर दिया किसने
अरे !
बहूमूल्य जीवन-पात्र में मेरे ?
एक मुट्ठी रोशनी
दे दो
मुझे !
.
संदेह के
फणधर अनेकों
आह !
किसने
गंध-धर्मी गात पर
लटका दिये ?
विश्वास-कण
आस्था-कनी
दे दो
मुझे !
.
एक मुट्ठी रोशनी
दे दो
मुझे !

2 comments:

P.N. Subramanian May 3, 2009 at 2:07 PM  

"एक मुट्ठी रोशनी
दे दो
मुझे !" बहुत ही सुन्दर. बहुत ही अच्छा लगा. इस से ज्यादा हम कुछ लिख ही नहीं सकते

डॉ. मनोज मिश्र May 3, 2009 at 3:51 PM  

एक मुट्ठी रोशनी
दे दो
मुझे !.......
sahee dristi.

About This Blog

  © Blogger templates ProBlogger Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP