आप सभी का स्वागत है. रचनाएं भेजें और पढ़ें.
उन तमाम गुरूओं को समर्पित जिन्होंने मुझे ज्ञान दिया.

Saturday, December 27, 2008

GAZAL

बशीर बद्र





मोहब्बतों में दिखावे की दोस्ती ने मिला,
अगर गले नहीं मिलता, तो हाथ भी न मिला

घरों पे नाम थे, नामों के साथ ओहदे थे,
बहुत तलाश किया, कोई आदमी न मिला

तमाम रिश्तों को मैं, घर में छोड़ आया था,
फिर इसके बाद मुझे कोई अजनबी न मिला

ख़ुदा की इतनी बड़ी कायनात1 में मैंने,
बस एक शख़्स को माँगा, मुझे वही न मिला

बहुत अजीब है यें कुर्बतों2 की दूरी भी,
वो मेरे साथ रहा और मुझे कभी न मिला
-------------------------------------------------------------------------------
1.ब्रह्माण्ड, संसार। 2.समीपताओं।

3 comments:

DREAM December 27, 2008 at 9:49 PM  

bhut achcha blog hai, agar bura na lage to kahna chahoonga is ko jyada dark na rakh kar light background den. yogesg swapn-dream

मीत December 27, 2008 at 10:59 PM  

पसंदीदा ग़ज़ल. शुक्रिया पढ़वाने का ...

Dr. Amar Jyoti December 28, 2008 at 6:03 AM  

'वो मेरे साथ रहा और मुझे कभी न मिला'
आभार एक अच्छी ग़ज़ल पढ़वाने के लिये।

About This Blog

  © Blogger templates ProBlogger Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP