आप सभी का स्वागत है. रचनाएं भेजें और पढ़ें.
उन तमाम गुरूओं को समर्पित जिन्होंने मुझे ज्ञान दिया.

Monday, November 24, 2008

बंजारा मन

SEEMA GUPTA


ये मन फ़िर बंजारा हुआ,
भटकने को बेकरार ,
उन्ही रास्तों पर ,
जहाँ दरख्तों के साये ,
कुछ सूखे टूटे पत्ते ,
पहचानी एक महक ,
उडता हुआ धुल का गुब्बार ,
दूर तक फैला सन्नाटा ,
यादों की किरचे ,
भीगे हुए से पल ,
फीके क़दमों के निशाँ ,
बिखरे पडे हैं लावारिस से,
उन्हें फ़िर से समेट लाने को ,ये मन फ़िर बंजारा हुआ,

2 comments:

seema gupta November 24, 2008 at 9:19 AM  

DR.Shagufta Niyaz Jee thanks a lot for presenting my poem overe here.

Regards

शोभा November 24, 2008 at 4:21 PM  

सुन्दर अभिव्यक्ति।

About This Blog

  © Blogger templates ProBlogger Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP